दिव्य हैं, राजस्थान के धुन्धाड़ा ग्राम का यह शिवमंदिर

Samujheswar Mahadev

दिव्य हैं, राजस्थान के धुन्धाड़ा
ग्राम का यह शिवमंदिर
सामुजा
राजस्थान के जोधपुर जिले से लगभग 60 किलोमीटर की दूरी पर स्थित धुन्धाड़ा गांव के नजदीक सामुजेश्वर महादेव का मंदिर अत्यन्त चमत्कारी और दिव्य हैं, मान्यता के अनुसार 16 वीं शताब्दी के इस मंदिर की विशेषता यह हैं, कि इसमें शिवलिंग (स्वयंभू) हैं, अर्थात् अपने आप प्रकट हुए हैं, और शिवलिंग में किया गया अभिषेक जल,दूध, दही व द्रव्य सीधा पाताल में जाता हैं, शिवलिंग के इर्द- गिर्द योनि में एक गोलाकार रेखा बनी हुई हैं, जिससे अभिषेक द्रव्य सीधा नागलोक को जाता हैं।
सामुजेश्वर महादेव के बारे में यह कथा भी प्रचलित हैं, कि एक बार जब मंदिर के जिर्णोद्धार के लिए जब शिवलिंग के इर्द-गिर्द से खोदा गया तो अन्दर से रक्त द्रव्य निकलने लगा, जिससे मजदूर व कारीगरों ने घबराकर काम बीच में ही रोक दिया, तथा शिवलिंग के मूलस्वरूप को छेडे़ बिना ही जिर्णोद्धार किया गया । samujha samujha1
इस दिव्य और चमत्कारी शिवालय की प्रसिद्धि सुनकर देश-विदेश से अनेकानेक सैलानी और भारत भर की ख्यातनाम हस्तियां इस शिवलिंग में दर्शनों के लिए आती हैं, और शिवकृपा से उनके मन की ईच्छा भी पूर्ण होती हैं।
प्रसिद्ध राजनेता अमरसिंह, भारतीय टीम के खिलाड़ी आर.पी.सिंह, पाश्र्व गायक उदित नारायण, आदि अनेक हस्तियां इस शिवालय में दर्शनार्थ पहुंच चुकी है।

Comments are closed.